Murcha Pranayama से दूर करे मानसिक विकार ,दिमाग को रखता है शांत।

Murcha Pranayama Step By Step Guide In Hindi  का अभ्यास हमारे शरीर के लिए ही नहीं बल्कि आत्मा के विकास के लिए भी लाभदायी है। संस्कृत शब्द मूर्छा का अर्थ, होश ना रहना या बेहोशी होता है। इसे करते समय व्यक्ति अपने विचारों से मुक्ति का अनुभव करता है। मूर्छा प्राणायाम को प्राणायाम की उन्नत श्रेणी में रखा गया है ,इसलिए शुरुवाती लोगों के लिए ये कठिन दिखाई देता है। इसके विपरीत नियमित प्राणायाम करने वाला साधक इसे आसानी से कर लेता है। इसका नियमित अभ्यास हमें कई गंभीर प्रकार की बीमारयों से बचाता है ,साथ इसे अपने डेली रूटीन में शामिल करना, आपमें जोश और उल्हास भर देता है। मूर्छा प्राणायाम का अभ्यास ज्यादातर दिमाग की मांसपेशियों को प्रभावित करता है। यही कारण है की काम ,क्रोध जैसे मानसिक विकारों पर भी Murcha Pranayama के नियमित अभ्यास से सरलता से विजय प्राप्त की जा सकती है।



Murcha Pranayama Kaise Kare Step By Step Guide 

 Murcha Pranayama Kaise Kare Step By Step Guide
 Murcha Pranayama


  1.  Murcha Pranayama करने के लिए सबसे पहले किसी स्वच्छ और खुली जगह पर बैठ जाए।
  2.   बैठने के लिए आप किसी ध्यानात्मक आसान जैसे Padmasana या Sukhasana का उपयोग कर सकते है। [ Read - Padmasana Step By Step Guide ]
  3. अपने दोनों हाथों को घुटनों पर रखे ,और अपने दिमाग से सारे विचारों को छोड़ दे।
  4.  सबसे पहले अपनी आखों को बंद करे।  
  5.  अपनी नाक के दोनों छिद्रों से श्वास को भरते हुए ,अपने सर को ऊपर उठाकर पीछे की और ले जाए। जिससे आपकी नजर सीधे आकाश की और पड़नी चाहिए।
  6.  अपनी श्वास को रोककर रखे और अपनी आखों को खोलकर आकाश की और देखे (जबतक आप श्वास को रोक सकते है )  
  7.  कुछ देर बाद आखों को फिरसे बंद करे। 
  8. और श्वास को बाहर छोड़ते हुए सामान्य स्थिति में आ जाये। 
  9. इसी क्रिया को बिना रुके ४ से ५ बार करे। 
  10. जब आप नियमित अभ्यास से इस Pranayama में पारंगत हो जाए तो समय अवधि  को आप बढ़ा सकते है।

Murcha Pranayam Se Sehat Ko Milate Hai Ye Fayde - Health Benefits

Murcha Pranayam Se Sehat Ko Milate Hai Ye Fayde - Health Benefits
Murcha Pranayam Health Benefits


  1. मूर्छा प्राणायाम व्यक्ति को दिव्य और आध्यात्मिक वातावरण का अनुभव कराने में उपयुक्त प्राणायाम है। 
  2. इसके अभ्यास से दिमाग शांत और तनावरहित महसूस करता है।
  3.  यह व्यक्ति के भय ,चिंता ,क्रोध जैसे मानसिक विकारों को दूर करने में सहायक सिद्ध होता है।
  4.  नियमित इसके अभ्यास से सिरदर्द ,आधे सर का दर्द ,मांसपेशियों में कमजोरी जैसे रोगों को दूर करता है।
  5.  इसका अभ्यास व्यक्ति को समस्त वातरोगों से मुक्ति दिलाता है।
  6.  यह आँखों की कमजोरी दूर कर नेत्रज्योति को बढ़ाता है। 
  7. इसके अभ्यास से व्यक्ति का मन अंतर्मुख होकर ध्यान की अवस्था में पहुँचता है।
  8.  यह कुण्डलिनी को सक्रीय करता है और व्यक्ति को समाधी का साक्षात्कार करने में सहायता देता है। 
  9. इसके अभ्यास से समस्त धातुरोगों का नाश हो जाता है।
  10.  ये समस्त वीर्यदोष ,शुक्रक्षय और नपुंसकता जैसी बीमारियों को दूर करता है।
  11.  प्रजनन प्रणाली को स्वस्थ रखता है साथ ही मासिक धर्म की समस्यायों को दूर करने में सहायक है। 
  12. यह व्यक्ति के अंदर शांति ,दया ,क्षमा जैसे अद्वितीय गुणों को उजागर करता है।  



Murcha Pranayama Ka Abhyas Karte Samay In Baato Ka Dhyan Rakhe 


  1. Murcha Pranayama एक उन्नत श्रेणी का प्राणायाम है ,इसलिए इसका अभ्यास करने से पूर्व आपको बाकी  प्राणायाम और प्राणायाम की क्रियाओं का अभ्यास कर लेना चाहिए।
  2.  जिससे आप आसानी से इस Pranayama का अभ्यास कर पाए। 
  3. मूर्छा प्राणायाम को आप आसनों के बाद या अन्य प्राणायामों के साथ कर सकते है। 
  4. यह एक अच्छी बात होगी अगर आप इसे सुबह सूर्योदय के समय करे।


Murcha Pranayama Me Rakhe Ye Savdhani 

Murcha Pranayama Me Rakhe Ye Savdhani
Murcha Pranayama Precautions


  1. शुरुवाती समय में जब आप इस प्राणायाम का अभ्यास करते है तो किसी योग्य गुरु के सानिध्य में ही इसे करे।
  2.  इस प्राणायाम का अभ्यास करते समय चक्कर या बेहोशी की स्थिति महसूस होने लगे तो तुरंत अभ्यास को रोक दे।
  3.  High B.P. ,मानसिक समस्या ,आवेग ,या चक्कर आना जैसी समस्या से ग्रसित होनेपर इस प्राणायाम को ना करे।
  4.  अकेले इस प्राणायाम को नहीं करना चाहिए ,इसे करते समय अपने गुरु या किसी साथी का पास होना आवश्यक है।
  5.  अधिक समय तक इस प्राणायाम का अभ्यास ना करे।


आशा है की आपको "Murcha Pranayama से दूर करे मानसिक विकार ,दिमाग को रखता है शांत।" से उपयुक्त जानकारी मिल गयी होगी। फिर भी कुछ पूछना चाहते है तो आप कमेंट कर के पूछ सकते है। 



Previous
Next Post »